Go to the top

चारे का साईलेज (अचार) बनाना (Stored Fodder- Silage)

UK Atheya / Agriculture, Nutrition /

बरसात में जब अधिकाधिक मक्का की खेती होती है। जब मक्का को काटकर आॅक्सीजन रहित स्थान पर 45 दिन तक रखने से मक्का साईलेज बनता है। इसे गाय भैंस को खिलाकर अधिक दूध उत्पादन कर सकते है।

जब मक्का के दाने दूधिया होते हैं, तब मक्का की चरी को एक ईंच से छोटी काटकर बंकर में रखकर ट्रैक्टर द्वारा कुचलकर उसकी वायु को निकाल देते है। एवं बंकर को आप प्लास्टिक से ढककर 45 दिन के लिए सील कर दें। सील करने से पहले 5 प्रतिशत गुड़ का घोल कटे हुए चारे पर छिडक दें। इस प्रकार से पूरे खेत की पफसल को आप एक दिन में काटने के बाद आप दूसरी फसल बो सकते है। तथा आप प्रतिदिन चारा काटने की परेशानी से भी बच सकते है। बंकर का चित्र दर्शाया गया हैं। इसकी विधि को विस्तार से देखने के लिए आप यू-ट्यूब की सहायता ले सकते है।
भारत में कम दूध देने वाले पशु भूसे और दानें पर पाले जाते है। जहां हरित क्रांति हो गई है और सिंचाई के साधन उपलब्ध है वहां हरा चारा और गन्ने का अंगोला दिया जाता है। जहां खेती छोड़कर किसान छोटा किसान दुग्ध उत्पादन में लिप्त है। वहां वह हरा चारा उगाता है। जहां जमीन उपलब्ध नहीं है तथा दूध की कीमत अधिक है वहां पर पशुओं को भूसे तथा दाने पर रखा जाता है। देहरादून उसका एक उदाहरण है। भूसे, दानें और सिरे को मिलाकर 14 किग्रा की कम्पैक्ट भेली भी उपलब्ध है। जिसमें भंडारण में आसानी होती है। तथा दानें और चारे को अलग देनें की आवश्यकता नहीं होती है। लेकिन यह 10 लीटर तक दूध देने वाले चशुओं के लिए लाभकारी है। आजकल बहुत सी कंपनियां रेडिमेंड़ दाना देती है। जिसमें खल, आनाज आदि मिला होता है। अधिकत्तर कंपनियां खल में बचत करने के लिए दानें में एक प्रतिशत यूरिया का भी उपयोग करते है।

अखिलेश प्रताप सारस्वत May 13, 2018 Post Reply

किस प्रकार एवं पशु को कितनी माञा मे दिया जाता है|

Leave a Comment