Go to the top

पशुओं में गर्भाधान

UK Atheya / Cattle, Cattle Reproduction /


यह जान लेना भी जरूरी है कि आदमी व गायों में गर्भाधान की जांच का तरीका भिन्न है। मनुष्य, बन्दर व बन्दर जाति के प्राणियों में माहवारी रूकने से गर्भधारण की पुष्टि हो जाती है।

परन्तु गायों में ऐसा कुछ भी नहीं होता। गर्भाधान के उपरान्त यदि 20 दिन बाद, वह ‘हीट’ में न आये, तो इससे यह संकेत मिलते हैं कि इस पशु ने गर्भधारण कर लिया है। परन्तु विरोधाभास यह है कि 30 प्रतिशत पशु गर्भधारण के बाद भी ‘हीट’ में आ जाते हैं। कुशल पशु चिकित्सक गर्भाधान के डे़ढ महीने बाद गर्भधारण की पुष्टि कर देते हैं। परन्तु ज्यादातर पशु चिकित्सक गर्भधारण की पुष्टि तीन महीने या तीन महीने के उपरान्त ही कर पाते हैं। यह बताना उचित होगा कि गर्भित पशु को किसी प्रकार का टीका, कीड़े मारने की दवा या बाह्य परजीवी मारने की दवा नहीं खिलानी चाहिए। तीन माह की अवधि के बाद भ्रूण की नाजुक अवस्था पार हो जाती है और वह किसी प्रकार की बीमारी या दवाइयों से ज्यादा प्रभावित नहीं होता। अपने पशु की पशु चिकित्सक से जांॅच करा कर गर्भधारण करने की तारीख से 270 दिन गिनकर अनुमान लगा लेना चाहिए कि वह कब ब्यायेगी। ब्याने के 60 दिन पहले दूध छोड़ना पड़ता है।
डेयरी उद्योग कापफी मशक्कत भरा काम है। इसमें जितनी मेहनत और साज-सम्हाल आप करेंगे, उतना ही मेहनताना यानी लाभ भी आपको मिलेगा। इस काम में पफजीहत भी कम नहीं है। कभी-कभी पशुओं को बार-बार गर्भाधान कराने और उनके गर्भधारण न करने से खासी निराशा भी होती है। साथ में नुकसान तो होता ही है। पर्याप्त जानकारी न होने से भी ये सारी दिक्कतें आती हैं। इसलिए इस सबसे बचने के लिए आप ‘कृत्रिम गर्भाधान’ के तुरन्त बाद ही ‘रेस्पटल’ यानी ‘जी.एन.आर.एच’ गोनेडोट्राॅपिफन हारमोन का इंजैक्शन लगवायें। दसवें दिन बाद यही इंजैक्शन फिर लगवायें। इसके बाद भी अगर आपका पशु गाभिन नहीं होता और ‘हीट’ में भी नहीं आता तो पशु चिकित्सक की सलाह अवश्य लें।
एक बात और ध्यान रखें। अगर आपके पशु ने बच्चा जना है तो उसके ब्याने यानी बच्चा देने के 10वें दिन ‘ल्यूटालाइज’ का इंजैक्शन जरूर लगवा दें। इससे आपका यह पशु एक महीने बाद ही ‘हीट’ में आ जायेगा। लेकिन ध्यान रखें, पहली ‘हीट’ में ही उसे गर्भधारण न करायें। उसे दूसरी बार ‘हीट’ में आने दें। तभी गर्भित करायें। इस तरह पशु 60 दिन के भीतर गाभिन हो जाना चाहिए।

Leave a Comment